Musafir hindi

किताबो का सफरनामा

ऑडियो बुक : जस्ट लाइक दैट

लेखक : मिथिलेश गुप्ता

प्रकाशक – सूरज पॉकेट बुक, पॉकेट एफ एम

आवाज :- आर जे कृतिका

हेलो दोस्तो! आज हम बात करेंगे मिथिलेश गुप्ताजी द्वारा लिखित उनकी प्रथम किताब जिसका नाम है “जस्ट लाईक दैट” जो सन 2016 को सूरज पॉकेट बुक से प्रकाशित हुई । और उसके सफलता के बाद उनकी लेखनी पाठको का मनोरंजन करती रही है उन्होंने अब तक पांच किताबे प्रकाशित की है जो क्रमशः ‘जस्ट लाइक दैट’,’ इश्क़ वाली खुशबू’, ‘वो भयानक रात’, ’11:59′ और हाल मैं उनका ड्रीम प्रोजेक्ट ‘ऑक्सीजन ऑफ लाइफ’ प्रकाशित हुई है । मिथिलेश गुप्ता लेखक के फ्लाईड्रीम के सह- संस्थापक भी है और गोविदा जी के बहुत बड़े प्रशंसक भी।

यह किताब तीनो फॉरमेट ( पेपरबैक ,ईबुक और ऑडियो ) तीनो मैं उपलब्ध है आज हम जस्ट लाइक देट के ऑडियो फॉर्मेट की समीक्षा करेंगे जो पॉकेट एफ एम पर उपलब्ध है और इसे सुरीली आवाज दी है आरजे कृतिका जी ने यह पहले स्वयं लेखक मिथिलेश जी की आवाज मैं थी पर किसी कारणवश उसे हटा दिया गया है और अब यह आर जे कृतिका जी के आवाज में उपलब्ध है और उनकी सुरीली आवाज, मिथिलेश जी की लेखनी और मधुर संगीत के मिश्रण ने इस किताब को चार चांद लगा दिए है ।

अब बात करते है इस पुस्तक की कहानी की तो यह मुख्यतः तीन कहानियों से बनी हुई है और सारी कहानियाँ प्रेम पर आधारित है। कही नुक्कड़वाला प्यार है जो कड़कड़ाती ठंड में भी चक्कर लगाता फिरता है तो कही धोखा है। लेखक ने प्यार के अलग अलग एंगल को पाठकों के समक्ष रखा है। सबसे पहली कहानी देखें तो उसमें कड़कड़ाती ठंड में आशिक़ अपने प्यार को रोज सुबह देखने जाता है। दूसरी कहानी में एक दोस्ती वाला प्यार है तो वही तीसरी कहानी में प्यार का अलग चहेरा बताया है। प्यार का खेल दिखाया है।

लेखक ने बारीकी से प्यार को अलग अलग नजरिए से तराशा है। उनके हिसाब से प्यार तो हो तो जाता है जस्ट लाईक दैट तो इसी को आगे बढ़ते हुए सच्चा प्यार भी है तो धोखा फरेब भी कम नही इस बात को भी सलीके से सिखाया गया है और आजकल का ट्रेंड दिखावे के लिए गर्लफ्रैंड बॉयफ्रेंड बनाना पर कड़ी टिका की है।

अगर मेरे हिसाब से देखे तो मुझे दूसरी कहानी बड़ी ही रोचक लगी जिसमे दोस्ती भी है प्यार भी है तकरार भी है तो दूरियाँ भी कम नही है और अगर केरेक्टर के हिसाब से देखें तो तीसरी सीज़न का अनिकेत मुझे बड़ा अच्छा लगा जो प्यार के लिए सब कुछ करता है। पर्सनली मुझे पहली सीज़न उतनी अच्छी नही लगी हालांकि वो भी एक ट्रेंड है नुक्कड़ या रास्ते पर जाकर अपने प्यार को देखना या पीछा करना जो आजकल बहुत देखने को मिलता है।

तो दोस्तो आप भी इस कहानी को सुनिए क्या पता आपको भी किसीसे प्यार हो जाये जस्ट लाईक दैट। – सीमा बगड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *