Musafir hindi

किताबो का सफरनामा

पुस्तक शीर्षक – जिन्नात की दुल्हन

लेखक : साबिर खान पठान

पब्लिकेशन : शोपिज़ेन

मूल्य: 190 रु

हैल्लो दोस्तो, एक बार फिर डर दस्तक दे रहा है आपके द्वार, एक बार फिर से हम ला रहे है बुक रिव्यू जिसके लेखक है साबीरखान पठान। जी हाँ, ये वही साबिरखान पठान है जिनकी हाल ही में एक बुक हार्डकॉपी में फलयड्रीमस द्वारा प्रकाशित हुई है जो है कालकलंक। सबसे पहले तो मैं लेखक को musafirhindi.com की ओर से इस अदभूत बुक के लिए धन्यवाद व बधाइयां देना चाहती हूँ। फिर से एक ऐसी ही डरावनी व दिल दहला देने वाली कहानी के साथ लेखक आ रहे है शोपिज़न के साथ।

साबिरखान जी द्वारा लिखित इस उपन्यास का नाम है जिन्नात की दुल्हन, जो कि शोपिज़न द्वारा हार्ड कॉपी में पब्लिश हुई है। जिन्नात की दुल्हन, नाम सुनकर इतना तो समझ आ ही रहा होगा कि इसमें जिन्न की दुल्हन की बात हो रही है।दुनिया का सबसे खतरनाक जिन्न जो एक बार किसी को अपने वश में कर ले तो उससे छुटपाना लगभग नामुमकिन हो जाता है।

जिन्नात की दुल्हन एक बेहद रोमांचित कहानी है जिसमे ना केवल डरावना चित्रण है बल्कि प्यार के मायने भी देखने को मिलता है, एक प्रेमी का उसकी प्रेमिका के लिए प्यार, एकतरफा प्यार तो साथ ही जाबाज पुलिस अफसर भी है जो डट कर इस उलझन भरे केस को सॉल्व करता है जो हर कोई नही कर सकता। इस कहानी की एक झलक देखे तो मुख्य किरदार खलील किसी राजकुमार जैसा जो कई लड़कियों के दिल तोड़ गुलशन के साथ उनकी शादी करता है, हर तरफ ख़ुशियाँ ही खुशियाँ। लेकिन वो कहते है ना कि ये समय भी बीत जाएगा तो उनकी खुशियों को किसी की नज़र लग जाती है जब एक जिन्न का साया नायिका पर पड़ता है। उनके जीवन की सबसे खूबसूरत रात एक श्राप में तब्दील हो जाती है। यही से शुरू होता है ख़ौफ़ भरा मंज़र। धीरे धीरे जिन्न अपना साया पूरे घर पर फैलाने लगता है और पूरी तरह नायिका को अपने नियंत्रण में कर लेता है। जिसके साथ कई छलावा देखने को मिलते है।

यह कहानी आपको एक खतरनाक सफर पर ले जाएगी। जहाँ कभी आपको प्रेम, कभी छलावा, कभी साहस, कभी डर, कभी वीभत्स नजारे का एहसास यूँ कहे तो कुछ गलत नही की लगभग सारे रस इस कहानी में देखने को मिलेंगे। कहानी में ऐसे मोड़ है कि कौन सी कड़ी कहाँ जुड़ेगी वो रीडर प्रेडिक्ट नही कर सकता। सबसे रोचक बात तो यह है की पुलिस इस केस से किस तरह संपर्क में आती है। क्योकि डिरेक्टली इस घटना के बारे में पुलिस को कोई खबर नही देता बल्कि दूसरे केस से कड़ियाँ जुड़ती जाती है और आखिरकार जिन्न के छलावे तक पुलिस पहुँचती है।

इस कहानी में हर किरदार की एक आगवी पहचान है। मुख्य नायक खलील जो अपनी पत्नी के साथ तब भी रहता है जब एक जिन्न उसकी बीवी का इस्तेमाल करता है। गुलशन जिस पर जिन्न का साया है। गुलशन के ससुर जो पिता समान और बिल्कुल निडर। सबसे बढ़िया और समर्पण भरा किरदार जिया और अमन। जो कि खलील की बेस्टफ्रेंड होती है जो खलील से बेइंतहा प्यार करती है और हर मुश्किल घड़ी में खलील का साथ देती है। जिया की ही तरह अमन जो कि जिया से बेसुमार प्यार करता है और जाबाज पुलिस।

तो दोस्तो क्या यह सब मिलकर जिन्न का साया गुलशन पर से हटा पाएंगे या फिर जिन्न के हाथों मारे जाएंगे। देखने के लिए जरूर पढ़ें यह कहानी “जिन्नात की दुल्हन” और यह रिव्यू आपको कैसा लगा यह कमेंट कर जरूर बताएगा। फिर मिलेंगे नए सफर पर तब तक के लिए अलविदा।

आप यहाँ से इस किताब को खरीद सकते है।

https://shopizen.page.link/5wpV

2 thoughts on “जिन्नात की दुल्हन पुस्तक समीक्षा

  1. Fantastic! I am occasional cook. Sometimes I make food at home when I get time out of my work. Karil Thebault Adamski

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *