Musafir hindi

किताबो का सफरनामा

पुस्तक शीर्षक: – हौसला

लेखक:- मनमोहन भाटिया

प्रकाशन – फ्लाई ड्रीम

प्रकार:- ईबुक

हैल्लो दोस्तों, स्वागत है आपका एक बार फिर से हम हाजिर है आपके समक्ष जिस पुस्तक की समीक्षा कर रहे है उसका शीर्षक है हौसला। जो की एक कहानी संग्रह है जिसके कृतिकार है मनमोहन भाटिया जी और इसे प्रकाशित किया है फ्लाईड्रीम पब्लिकेशन ने मनमोहन भाटिया जी जाने माने बहुविधा लेखक है जिन्होंने सामाजिक,होरर , साइंस फिक्शन ( उनकी अगली किताब एक साइंस फिक्शन है ) पर अपनी कलम का जादू बिखरा है और फिलहाल वह दिल्ली मे रहते है।

अब बात करते है किताब हौसले की तो यह एक कहानी संग्रह है और यह किंडल पर उपलब्ध है इस कहानी संग्रह में कुल मिलाकर 22 कहानियाँ है जो हौसला शब्द का मर्म समजाती है। कैसे आप हर परिस्थिति में हौसले बुलंद रखकर उसका सामना कर सकते है या करते है उसे दर्शाया गया है।

जैसे हर मणका मिलकर एक माला बनाता है ठीक वैसे ही हर कहानी मलकर हमे हौसला कैसे बनाये रखे वह सिखाती है। लेखक ने रोजबरोज की जिंदगी में देखी या हमारे ही साथ होने वाली घटनाओं को दिखाकर हमे हौसला बुलन्द रखने की सिख दी है। लेखक के शब्दों में ही देखे तो उम्मीद और हौसला जीवन की नींव है।

मेरे हिसाब से देखे तो मुझे डॉ.चन्दन, अनुप्रिया की कहानी बढ़िया लगी वैसे देखे तो सारी कहानी अच्छी है। जैसे अनुप्रिया में देखे तो एक लड़की जो कि आगे पढ़ना चाहती है लेकिन उसके घरवाले उसकी शादी करा देते है तो देखना ये है कि क्या वह आगे पढ़ पाएगी या फिर मुसीबतो के सामने घुटने टेक देगी? उसी तरह डॉ. चन्दन है जिन्होंने किशोरावस्था में फैसला लिया होता है कि वो खूब पैसा कमाएंगे लेकिन फिलहाल उनके हालात कुछ अलग होते है तो क्या वो उनके उस फैसले पर कायम रहेंगे या फिर उनका वो फैसला बदल जायेगा? ऐसी ही दिसचस्प कहानियों का संग्रह है “हौसला”।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *